Skip to content

(@ करवा चौथ@) पति से खूब प्रीति बढै निशदिन इस हेतु ही व्रत ये धारति हैं ।

Vindhya Prakash Mishra

Vindhya Prakash Mishra

कविता

October 11, 2017

(@ करवा चौथ@)
पति से खूब प्रीति बढै निशदिन
इस हेतु ही व्रत ये धारति हैं ।
दीर्घ जीवी बनें नित सुहाग रहे
ये प्रेम की दीपक बारति है।
पति ही परमेश्वर है इनका
शत कोटि अनंग को वारति हैं ।
चाँद के साथ पति मुखडा
विप्र तुलना शशि से ही कारति हैं ।
प्रिय प्रेम की आस रहे हरदम
इस हेतु करवा व्रत धारति हैं ।
सोरह कला का चंदा दिखे
इस हेतु ही चाँद निहारति हैं ।
सब व्रत मे ये पुनीत महा
इस हेतु करवा व्रत धारति हैं ।

विन्ध्यप्रकाश मिश्र विप्र
नरई चौराहा संग्रामगढ प्रतापगढ

Author
Vindhya Prakash Mishra
Vindhya Prakash Mishra Teacher at Saryu indra mahavidyalaya Sangramgarh pratapgarh up Mo 9198989831 कवि, अध्यापक
Recommended Posts
चाँद करवा चौथ का तब खास हो गया
Kapil Kumar शेर Oct 19, 2016
चाँद करवा चौथ का तब खास हो गया चाँद देख उनका, जब आभास हो गया ***************************** कपिल कुमार 19/10/2016
करवा चौथ पर एक रचना
सूर्योदय से पहले उठी मैं, किया जलपान मैंने, जलपान में लिया चूरमा और कुछ मिष्ठान मैंने। करके स्नान उस प्रभु के नाम की ज्योति जगाई,... Read more
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कार्तिक वदी चतुर्थी के दिन रखे जाने वाले व्रत का नाम ‘करवाचौथ’ है। यह भारतीय स्त्रियों का मुख्य त्यौहार है। इस दिन सौभाग्यवती स्त्रियां पति... Read more
कितना पावन पर्व है करवा चौथ
कितना पावन पर्व है करवा चौथ हम महिलाओं के लिए, इस दिन के आगे और खुशियाँ हैं कम महिलाओं के लिए। कई दिन पहले से... Read more