.
Skip to content

करवाचौथ

Neelam Sharma

Neelam Sharma

कविता

October 8, 2017

करवाचौथ

सुनो,चाँद,विधु,सुधाकर,कलानिधि, निशापति, शशांक।
तुम चन्द्र हो चांदनी निशा के और मेरे पिया हैं मेरे मयंक।
साज-श्रृंगार मेरे साजन से,खुमार शुमार रहता साजन से।
घर परिवार सभी साजन से,प्यार बयार बहती साजन से ।

हे पूनम सुहास चंद्रमा सातों जन्म के साथ का वर देना ।
हे रजनी उजास चांद तुम नीलम अंबर पर सु-दर्शन देना।
रचा सुमेहंदी हाथेलियों पर और कर सजे कंगन के साथ
ओढ चुनर प्रीत रंग की,थाम पूजा थाल और करवा हाथ।
मांगूंगी तुमसे मोहक विधु, रहे संजय-नीलम सदैव साथ।
आयुष्मान पिया को कहना,हर सुहागन की रखना बात।
सुनो,चांद तुम जल्दी आना,करना महसूस सबके जज़्बात

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
मैं तुम्हे नाम देती हूँ  मुझे पहचान तुम देना
मैं तुम्हे नाम देती हूँ मुझे पहचान तुम देना मेरी इस गुस्ताखी का तुम मुझे इनाम दे देना मैं दर पर हूँ उसके कोई उसे... Read more
सुनो रे साँवरे मेरे...
सुनो रे साँवरे मेरे, मुझे ऐसा बना देना, की मीरा भी दिखे मुझमे, कि राधा सा सजा देना. तुम्हारे मन को यूँ भाऊ,की ज्यों तुलसी... Read more
सिर्फ तुम/मंदीप
सिर्फ तुम/मंदीपसाई तारो में तुम फिजाओ में तुम हो चाँद की चादनी में तुम। ~~~~~~~~~~~~~~ ~~~~~~~~~~~~~~ बागो में हो तुम बहरों में हो तुम फूलो... Read more
अपना के मुझको, ठुकरा ना देना
अपना के मुझको,ठुकरा ना देना| हँसाके के मुझको ,रुला तू ना देना|| दुनिया को मेरा,पता तू ना देना| मेरे प्यार को यूँ, भुला तू ना... Read more