.
Skip to content

करवट ज़िन्दगी की

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

कहानी

October 24, 2017

कभी आस्था की ज़िंदगी में सुबह शाम दोनों होती थी । अब केवल शाम ही रह गई थी या ये समझ लो इतने गहरे बादल छा गए की सूरज निकल ही नहीं पा रहा था । ज़िन्दगी ने फिर से आज करवट बदली थी । लेकिन पता नही क्यों आस्था आज शांत नज़र आ रही थी । जैसे उस पर सूरज चाँद का कोई असर नही पड़ रहा हो । निकलो तो भला न निकलो तो भला । पहले वो इन सब बातों से बहुत उद्विग्न हो जाया करती थी । पर आज सोच में डूबी हुई अपने रोज के काम निबटाती जा रही थी । हमेशा ऐसे मौकों पर आँसुओ की बाढ़ आ जाया करती थी उसकी आँखों से परंतु आज कोई आँसू नही था उसकी आँख में । कल अमेरिका से बेटे का फोन आया था । कितनी शिकायतें थी उसे अपनी माँ से ये वो कल ही जान पाई थी । पति ने तो 5 साल ही साथ निभाया था और एक दिन अचानक ही दुर्घटना का शिकार होकर उसे छोड़ कर चले गए थे । तब भी ज़िन्दगी ने अपनी करवट बदली थी । उस वक़्त दो छोटे2 बच्चों के मासूम चेहरों ने उसे जीने के लिए मजबूर कर दिया था । रात भी दिन लगने लगी थी । नौकरी और बच्चों में ही लगे लगे कैसे दिन ,महीने, साल गुज़र गये पता ही नही चला । बेटी बड़ी थी उसकी शादी अच्छे परिवार में कर दी वो खुश है । इससे उसके मन को बड़ा संतोष था । अचानक एक दिन बेटे ने बताया उसे अपनी मनपसंद की लड़की से शादी करनी है । ये उसके लिए दूसरी खुशखबरी थी । परंतु जब वो लड़की और उसके परिवार से मिली तो उसकी खुशी काफूर हो गई । उसके अनुभव ने ताड़ लिया कि ये शादी उसके बेटे के लिए ठीक नहीं होगी । बेटे को समझाने की हर कोशिश बेकार गई । उसने मन मार कर शादी करवा दी । बेटे की नज़रों में उसकी कोई भी नाराज़गी उसी की गलत सोच की वजह से थी । आस्था ने भी मुँह पर ताला लगा लिया था । एक हफ्ते बाद ही वो पत्नी को लेकर अमेरिका चला गया था । कल छः महीने बाद उसका फोन आया था जिसमें उसने आस्था की सिर्फ गलतियाँ ही नहीं गिनाई बल्कि उसकी परवरिश को भी गलत ठहरा दिया । रात भर आस्था सो नही पाई । वो शिक्षिका थी ।रिटायरमेंट के बाद वैसे ही बहुत खाली हो गई थी । लेकिन घर के कामों में ही अपने आप को अधिकतम व्यस्त रखने की कोशिश करती रहती थी । बेटी कनाडा में थी कम आ पाती थी । बेटा शादी के बाद सी ही उससे दूरी बनाए हुए था । बहन ने भी भाई को समझाने की कोशिश की थी जिस की वजह से वो उसे भी दुश्मन ही मानने लगा था । रात में ही आस्था की।बेटी से भी बात हुई । वो भी लाचार थी । ऐसे ही सोचते2 कब सुबह हुई पता ही नहीं चला। आस्था नित्यकर्म से निबट कर नहाने गई तो अचानक ही उसका पैर फिसल गया । सर नल से जा टकराया । खून की धार फूट उठी । उठ ही नही पाई और ऐसे ही बेबस दर्द में तड़पते हुए सदा के लिए सो गई ।ज़िन्दगी ने आज आखिरी बार उसके लिए करवट बदली थी ।

डॉ अर्चना गुप्ता
23-10-2017

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
कुछ पंक्तियाँ
1 बस एक जलती सिगार ज़िन्दगी। हर कश धुएँ का गुबार ज़िन्दगी। झड़ गई एक चुटकी में , राख सी बेज़ार ज़िन्दगी । 2 चेन... Read more
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी को न समझ सकी ज़िन्दगी । बस इस तरह कटती रही ज़िन्दगी ।। करती रही वादे बार बार ज़िन्दगी । अनसुलझी सी रही फिर... Read more
खाली हाथ
आज शाम को खाली हाथ देखा मैने, कुछ अलसायी हुई कुछ मुरझाई देखा मैने। कुछ काली सी चादरों में लिपटी हुई जैसे कर रही हो... Read more
आस्था और विश्वास
यह हैं आस्था और विश्वास, जिससे जुड़ी सबकी श्वास, सदियों की हैं यह आस्था, प्रेम प्यार स्नेह की व्यवस्था, आनंद उत्साह का है संगम, जिससे... Read more