Skip to content

करनी और भरनी

aparna thapliyal

aparna thapliyal

लघु कथा

June 5, 2017

आज पुराने घर के आँगन में अकेली निस्सहाय बैठी शगुन के हृदय में दुख का समंदर ठाठें मार रहा है,तूफानी लहरें उठ उठ कर दिल की दीवारों से टकरा लहूलुहान किए दे रही हैं। आज से ठीक दो महीने पहले वह पति का वार्षिक संस्कार करने के बाद पचहत्तर वर्षीय अपनी छोटी बहन के आग्रह पर उसके घर चली आई थी। दोनों बेटे मय परिवार शहर के संभ्रांत क्षेत्रों मे सलीके से सजे आलीशान घरों में रहते हैं,एक ने भी नहीं कहा कि माँ अब अकेली यहाँ गाँव में कैसे रहेगी मेरे साथ चल।फिर सोचा कोई बात नहीं बच्चे हैं,अब तो इन्हीं के साथ रहना है,कोई बेगाने तो हैं नहीं कि फार्मेलिटी करें।इन्हीं की बेहतरीन परवरिश के लिए तो सबसे झगड़ा कर किनारा कर लिया था।
बेटों को फोन लग ही नही पा रहा था,बहन का पति स्वयं ही गाड़ी में सामान रख शगुन को उसके बड़े बेटे के यहाँ छोड़ने चल पड़ा क्योंकि अगले दिन बहन व उसके पति दोनों को आवश्यक कार्यवश बाहर गाँव जाना था।
दरवाजे पर पहुँच घंटी बजाई,दरवाजा तो नहीं खुला पर अंदर से बेटे की आवाज आई ‘हमने कहा था ले जाने को ? छोड़ने चले आए!
जहाँ से ले गए थे वहीं छोड़ दो।
अब हम इन्हें सँभालें या अपने बच्चों का जीवन सँवारें…..
अपर्णा थपलियाल”रानू”
०५..०६.२०१७

Share this:
Author

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you