करते है माँ ! तेरा नवरात्रों में अभिनन्दन --आर के रस्तोगी

करते है माँ ! तेरा नवरात्रों में अभिनन्दन |
लगाते है तेरे मस्तक पर रोली व चन्दन ||

हिमालय है पिता तुम्हारे,शैलपुत्रि कहलाती |
तेरी शोभा देख कर, कलियाँ भी मुस्कराती ||

करती भक्तो का कल्याण,रखती सबका ध्यान |
कर दो निडर हमे माँ,हरो सभी हमारे व्यवधान ||

अष्ट भुजायें है माँ तुम्हारी ,है सबसे शक्तिशाली |
अपनी शरण में बुला कर सबको करो शक्तिशाली ||

दुष्टों का तुम संहार करती,भक्तो को गले लगाती |
दीन-दुखियो को सहारा देकर अपनी शरण बुलाती ||

करे हम तेरी नित्य पूजा ,ऐसा दो हम को वरदान |
काम क्रोध को छोड़कर ,करे न किसी का अपमान ||

रस्तोगी तुम से विनती करता रखना मेरा भी ध्यान |
मुझको अपने दरबार बुला लो करो मेरा तुम कल्याण ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Like 1 Comment 1
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing