गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

कम किसी से नहीं गुणवती बेटियां

हौसलों से भरी डोलती बेटियां
हर कठिन लक्ष्य को भेदती बेटियां
———————————–
पाँव रोको नहीं आज टोको नहीं
पंख पाकर गगन चूमती बेटियां
———————————–
सौम्य मुस्कान से घर महकता रहे
फूल झरते हैं’ जब बोलती बेटियां
———————————–
मर मिटें देश की आन पर बान पर
मृत्यु का कुछ न भय मानती बेटियां
———————————–
लड़ रहीं रूढ़ियों से निरंतर सभी
बेड़ियां पाँव की तोड़ती बेटियां
———————————–
भेद करना उचित है नहीं आजकल
कम किसी से नहीं गुणवती बेटियां
———————————–
मूर्ति हैं बेटियां त्याग बलिदान की
मात्र अपना न सुख सोचती बेटियां
———————————–
छोड़ माता पिता जा के’ ससुराल में
कष्ट क्या क्या नहीं भोगती बेटियां
———————————–
कोई’ सुनता नहीं बेटियों की व्यथा
भाग्य अपना सदा कोसती बेटियां
———————————–
मिट रहीं कोख़ में सूखकर आज क्यों
निर्मला नर्मदा गोमती बेटियां
———————————–
राकेश दुबे “गुलशन”
10/01/2017
बरेली

30 Views
Like
28 Posts · 1.3k Views
You may also like:
Loading...