31.5k Members 51.9k Posts

कमज़ोरियाँ

भरी दोपहर में मुझ पर अँधेरा छा गया जैसे
मौसम-ए-बहार में ही पतझड़ आ गया जैसे।

ज़िन्दग़ी की शाख़ पर दो पत्ते थे बाकी
एक बे-रहम झोंका शाख़ हिला गया जैसे।

मैं खुदकों बड़ा ताक़तवर मानकर चला था
मेरी कमज़ोरियाँ मुझे वक़्त बता गया जैसे।

जॉनी अहमद ‘क़ैस’

3 Likes · 2 Comments · 8 Views
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Nagaon
58 Posts · 982 Views
When it becomes difficult to express the emotions I write them out. I am a...
You may also like: