Sep 8, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

कमाल का हुनर

कमाल का हुनर

रखतीं हैं
पूरे परिवार का
ख्याल
सभी परिजनों की
पसंद-नापसंद
का ख्याल
सबकी
इच्छा-अनिच्छा
का ख्याल
इतना सुनियोजित
प्रबंधन
कमाल का हुनर
रखतीं हैं
गृहिणियाँ
इनके हुनर का
समूचा मूल्यांकन
अभी बाकी है

-विनोद सिल्ला©

2 Likes · 2 Comments · 173 Views
Copy link to share
विनोद सिल्ला
412 Posts · 8.6k Views
Follow 6 Followers
टोहाना, जिला फतेहाबाद हरियाणा View full profile
You may also like: