.
Skip to content

कभी भला तो कभी बुरा लगता है

सागर यादव 'जख्मी'

सागर यादव 'जख्मी'

मुक्तक

March 20, 2017

कभी भला तो कभी बुरा लगता है

वो सारी दुनिया से जुदा लगता है

मुद्दत हुई उसका फोन आया न कोई खत आया

मेरा महबूब मुझसे खफा लगता है

Author
सागर यादव 'जख्मी'
नाम- सागर यादव 'जख्मी' जन्म- 15 अगस्त जन्म स्थान- नरायनपुर पिता का नाम-राम आसरे माता का नाम - ब्रह्मदेवी कार्यक्षेत्र- अध्यापन माँ सरस्वती इंग्लिश एकाडमी ,सरौली,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश. प्रकाशन -अमर उजाला ,दैनिक जागरण ,रचनाकार,हिन्दी साहित्य ,स्वर्गविभा,प्रकृतिमेल ,पब्लिक इमोशन बिजनौर ,साहित्यपीडिया... Read more
Recommended Posts
उनसे मिलने के ये आदाब बुरा लगता है
उनसे मिलने के ये आदाब,बुरा लगता है लोग हो जाते हैं बेताब,बुरा लगता है दिल में कुछ और ज़ुबाँ पर है कोई और ही बात... Read more
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
अच्छा लगता है...
इक खामोशी अक्सर फैल जाती है हम दोनों में कभी -कभी ... इक दूजे में गुम होना भी अच्छा लगता है !! तेरा इंतजार क्यों... Read more
आखिर मन ही तो है
आखिर मन ही तो है कभी ख्याली बूंद बन महल सजाने लगता है और कभी दूसरे ही पल खुद के बनाय घरोंदे को खुद ही... Read more