Skip to content

कभी जागीर लगती है……………. “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

मनोज कुमार

मुक्तक

May 12, 2017

कभी शोला, कभी शबनम, कभी तू आग लगती है
कभी जन्नत, परी कोई, कभी आफ़ताब लगती है
कभी मेरी है तू लैला, कभी तू हीर है शीरी
कभी दिल की तड़प मेरी, कभी जागीर लगती है

“मनोज कुमार”

Share this:
Author
मनोज कुमार
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/
Recommended for you