.
Skip to content

कभी काया या माया पर नहीं अभिमान तुम करना

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

मुक्तक

September 21, 2016

कभी काया या माया पर नहीं अभिमान तुम करना
गुणों को ही सदा अपनी यहाँ पहचान तुम करना
हमारे साथ तो केवल हमारे कर्म जाएंगे
मिले हैं हाथ दो हमको उन्हें भगवान तुम करना
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
नजर आओगे कभी ना कभी
यदि चाह हमारे दिल मे है , तुम नजर आओगे कभी ना कभी । भोली सूरत , सोनी सिरत तेरी साथी , मिल जाओगे आप... Read more
भारत माँ की शान हो तुम... ...बेटियां.....
CM Sharma कविता Jan 16, 2017
बेटी आँगन का फूल हो तुम... जीवन स्वर में संगीत हो तुम... मेरी आँखों में ज्योति हो तुम... साँसों में प्राण मेरे हो तुम... तुम... Read more
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more
कमाओ ढेर सारा धन मगर इतनी खबर रखना
किसी के इश्क मेँ तुम जिंदगी अपनी कभी बर्बाद मत करना कि अपने स्वर्ग से घर को कभी वीरान मत करना कमाओ ढेर सारा धन... Read more