.
Skip to content

कभी इस पार ,कभी….

Dinesh Sharma

Dinesh Sharma

कविता

August 17, 2016

कभी इस पार
कभी उस पार,
खिच लेता है
एक दूजे को
बहन-भाई का प्यार
रक्षा बंधन का त्यौहार
चलता रहे,निभता रहे
अमर प्रेम की है गाथा,
बहन भाई के रिश्तों का
अटूट प्यार,
कभी इस पार
कभी उस पार,
खिच लेता है,
एक दूजे को,
बहन भाई का प्यार
रक्षा बंधन का त्यौहार।।

^^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^^

Author
Dinesh Sharma
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज करना प्यारे दोस्तों। ऍम कॉम , व्यापार, निवास गंगा के चरणों मे हरिद्वार।।
Recommended Posts
किसी मजनूँ को जब लैला से थोड़ा प्यार होता है
कभी मंगल कभी शुक्कर कभी इतवार होता है कलेँडर के सभी पृष्ठोँ पे कोई वार होता है पिता -माता , बहन- भाई सभी को भूल... Read more
ये राखी का त्योहार.....???
जब भाई की कलाई पर,बहन बाँधती है राखी। इस प्रीत के बदले भाई,रक्षा का बनता साखी।। बहन-भाई का रिश्ता ये,सुंदर सबसे प्यारा है। कृष्ण ने... Read more
कभी माँ बनके मुझे प्यार दिया
कभी माँ बन के मुझे प्यार दिया कभी बेटी बन सत्कार किया नन्ही .. मुन्ही ..गुड़ीया ..बनकर कभी खुशीयाँ हमें अपार दिया कभी बहन बनी... Read more
*रक्षाबंधन*
*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान है। भाई बहन के प्रेम का बंधन रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है। श्रावण... Read more