31.5k Members 51.9k Posts

कब जीत हमारी होगी

💐कब जीत हमारी होगी💐
———————————-
उत्तम खाया जाएगा तो , अच्छा ही सोचा जाएगा।
अच्छा सोचा जाएगा तो , फिर जीत हमारी ही होगी।।

उपवन से ख़ुशबू आती है,
कीचड़ से बदबू आएगी।
गेहूँ करेगा घुन से यारी,
फिर खैर कहाँ रह पाएगी।

दीप जले उजियारा होगा , रात नहीं फिर भारी होगी।
गीत ग़ज़ल बन जाओ यारो , फिर हर सरग़म प्यारी होगी।।

मंदिर मस्ज़िद भ्रम हैं सारे,
भगवान मनों में होता है।
सत्य यही है पर दूर रहें,
अचरज मुझको तो होता है।
मन मेंं भय जब बढ़ जाता है , साबित होती लाचारी है।
जोश भरा हो मन में समझो , मौत मिले तो खुद्दारी है।।

“प्रीतम” सागर तो खारा है,
पर नदियाँ जल मीठा देती।
पर खारेपन के स्वाद बिना,
क्या रोटी मन को हर लेती?

सुखद प्रकृति की हर रुत होती , कृति हर देख मनोहारी है।
भेद लिए है मानव मन में , ये समझो इक बीमारी है।।

💐आर.एस.प्रीतम💐

3 Likes · 2 Comments · 18 Views
आर.एस. प्रीतम
आर.एस. प्रीतम
जमालपुर(भिवानी)
667 Posts · 55.9k Views
प्रवक्ता हिंदी शिक्षा-एम.ए.हिंदी(कुरुक्षेत्रा विश्वविद्यालय),बी.लिब.(इंदिरा गाँधी अंतरराष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय) यूजीसी नेट,हरियाणा STET पुस्तकें- काव्य-संग्रह--"आइना","अहसास और ज़िंदगी"एकल...
You may also like: