.
Skip to content

कब्रिस्तान न बन जाएं

प्रदीप कुमार गौतम

प्रदीप कुमार गौतम

कविता

July 17, 2017

मानवीय संवेदनाओं का
मानव से ह्रास हो रहा है
लूट का तांडव
मजहब का बवंडर
दर-दर भटकती मानवता
सुन रहा हूँ
हर दिन की चीख पुकार
महिला को बोलता
कोई विक्षिप्त
किन्तु
उससे अधिक तो
जिसने बीच
चौराहे में
मारे उसे डंडे
बुलवाया
अल्लाह
जय श्री राम
जय हनुमान
दूषित मानसिकता का
दिया परिचय
खुद ही है विक्षिप्त

प्रेमी को पकड़ा
मजहब के ठेकेदारों ने
उखाड़ लिए नाखून
नोच डाले बाल
कर दिया विक्षिप्त

सास ने
जो खुद
एक स्त्री है
बहु को मारा
ससुर के साथ
फाड़ डाले कपड़े
कर दिया नंगा
झकझोर डाला
उसके स्त्रीत्व को

बेरहम दुनिया नही
मानव है
जो खुद गुणों को
भुलाकर
बन गया बहशी
तभी तो
हर रोज
जिंदा माँस में
नोची जाती हैं
औरतें
घूरा जाता है
छेड़ा जाता है
माल माल कहकर
पुकारा जाता है ।

हर निगाहे तभी तो
भूखे सियार की तरह
ताकती है ।
सोचता हूँ सदियों पुराना
संस्कृति, सभ्यताओं का देश
कहीं कब्रिस्तान न बन जाए ।
—————————
प्रदीप कुमार गौतम
शोधार्थी, बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय, झाँसी

Author
प्रदीप कुमार गौतम
शोधार्थी, बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झाँसी(उ0प्र0) साहित्य पशुता को दूर कर मनुष्य में मानवीय संवेदनाओ का संचय करता है एवं मानवीय संवेदनाओ के प्रकट होने से समाज का कल्याण संभव हो जाता है । इसलिए मैं केवल समाज के कल्याण के लिए... Read more
Recommended Posts
कविता
भारत माता की जय बोलो -------------------- अपने मन की गाँठें खोलो। भारत माता की जय बोलो। इस मिट्टी में जन्मे हैं हम, इस मिट्टी में... Read more
गज़ल
मेरे दिल पे ख्वाबों का पहरा रहा है मुहब्बत को दिल ये तडपता रहा है न तारे से पूछो कभी दर्द उसका जो अम्बर से... Read more
मोदी जी
अमेरिका की संसद के श्रेष्ठतम सम्बोधन के लिए मेरे देश की शान आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र दामोदर मोदी जी के सम्मान में आप सभी गुणीजनों... Read more
---------मानवता का दीप --------
---------मानवता का दीप -------- उगते सूरज का मैं मन से ,अति अभिनन्दन करता हूँ-- सप्त अश्व पर चढ़कर आता ,उसका वंदन करता हूँ-- पवन देव... Read more