.
Skip to content

कन्टाप !

हरीश लोहुमी

हरीश लोहुमी

कहानी

June 4, 2016

कन्टाप !
*********
-अंकल जी नमस्ते !
-क्या बात है पप्पू ! बड़े बुझे-बुझे से लग रहे हो !
-कुछ नहीं अंकल जी ! कल रात मैं घर से भाग गया था ।
-क्या बात हो गयी थी ?
-कुछ नहीं बस ! पापा से हो गयी थी ।
-ऐसा नहीं करते बेटा ! माँ –बाप अपने बच्चों का हमेशा भला ही सोचते हैं।
-सोचने वाली बात नहीं है अंकल ! बहुत डांटा उन्होंने मुझे ! बहुत समझा रहे थे ! बहुत गुस्सा पिया मैंने ! पापा हैं, तभी तो मैं भाग गया ! कोई और होता तो पक्का खाता मेरे हाथ से – “कन्टाप” !
….. अपना कान खुजलाते हुए अंकल जी चुपके से वहां से खिसक लिये ।
**************************
***हरीश*चन्द्र*लोहुमी***
*************************

Author
हरीश लोहुमी
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो फँसता ही चला जाता हूँ । फिर सोचता हूँ - "शायद यही कविता हो जो मुझे रास न आ रही हो" . कुछ सामान्य होने... Read more
Recommended Posts
मॉ की कोख में मुझे न मारो
*मॉ की कोख में मुझे न मारो* ✍?अरविंद राजपूत पापा मेरे प्यारे पापा, मुझे अपना लो पापा जी । मां की कोख में मुझे न... Read more
मॉ की कोख मैं मुझे न मारो
पापा मेरे प्यारे पापा, मुझे अपना लो पापा जी । मां की कोख में मुझे न मारो, मुझे बचा लो पापा जी ।। मुझको तुम... Read more
कुछ तो बात है उसमें
कुछ तो बात है उसमें, वो जाने क्या कर गयी। था भरी महफिल में मैं अब तक वो इक पल में तन्हा कर गयी।। कौन... Read more
कहानी
कहानी..... ****सुगंधा *** यशवन्त"वीरान" उस दिन पापा की तबियत कुछ ठीक नहीं थी.मैं घर के काम में व्यस्त थी तभी पापा की आवाज सुनाई दी."बेटी... Read more