कविता · Reading time: 1 minute

कद

छत पर खड़े होकर
जब राह चलते लोग बौने
नजर आये।

तब ये अहसास छलका
कि मैंने मकान के कद
को भी अपने साथ
शामिल किया है आज।

1 Like · 5 Comments · 70 Views
Like
140 Posts · 8.8k Views
You may also like:
Loading...