Jul 30, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

कदर न हुई

जब तक रहे बन्दिशों मे कदर न हुई
हुई कदर भी यूँ की कोई खबर न हुई
****************************
मिलती रही हैं यूं दुश्वारियां हमसे कि
मिली ख़ुशी तो ख़ुशी पल भर न हुई
****************************
कपिल कुमार
29/07/2016

22 Views
Copy link to share
Kapil Kumar
154 Posts · 3.9k Views
Follow 2 Followers
From Belgium View full profile
You may also like: