Skip to content

कठिन बहुत जीवन की राहें…

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

गीत

March 17, 2017

कभी-कभी लगता है हमको,
कठिन बहुत जीवन की राहें,
०००
जो कुछ भी उपलब्ध हमें है,
उसको हम पहचान न पाते.
जो कुछ अपने पास नहीं है,
मिलेगा कैसे जान न पाते.
पूर्ण हों कैसे उर की चाहें,
कठिन बहुत जीवन की राहें.
०००
जिस पर अपना जोर न कुछ भी,
जिद क्यों फिर उसको पाने की.
बड़ी अजब लगती है प्यारे,
महफ़िल उर के मयख़ाने की.
समझ न पड़तीं दिल की आहें,
कठिन बहुत जीवन की राहें.
०००
समय पकड़ न पाये समय पर,
अब पछताने से क्या होगा.
रहे हारते जंग-ए-ज़िन्दगी,
अब जय-गाने से क्या होगा?
मिलें जीत की कैसे बाँहें,
कठिन बहुत जीवन की राहें.
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर

Author
Recommended Posts
कायर
कायर कायर होते हैं वे लोग जो चाहते तो हैं कहलाना किसी का पालनहार पर वे पाल नहीं पाते स्वयं को भी... कायर होते हैं... Read more
जीवन
जीवन सरस सलिल सा बहता जीवन अवरोधों संग बढ़ता जीवन निशा दिवस है गतिमय जीवन हँसते गाते चलता जीवन । दुख के पल भी सहता... Read more
मानव जीवन
मानव जीवन / दिनेश एल० "जैहिंद" कौन जाना वह जीवन क्यों पाया ।। इस धरती पर वह क्योंकर आया ।। यह जीवन तो है एक... Read more
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' की कुण्डलिया
1.आशा 000 आशा यूँ मत छोड़ना, आशा ही संसार. इससे ही जीवन चले,है यह ही आधार. है यह ही आधार,याद रखना यह प्रियवर, इससे ही... Read more