मुक्तक · Reading time: 1 minute

और इससे ज्यादा गम क्या मिलेगा

और इससे ज्यादा गम क्या मिलेगा
कसाब हैं दुश्मन रहम क्या मिलेगा
***************************
लगे हैं दुश्मन और दोस्त भी मेरे
हुआ जो मेरा सर कलम क्या मिलेगा
***************************
कपिल कुमार
08/12/2016

कसाब…कसाई
कलम……काटना

70 Views
Like
Author
154 Posts · 8k Views
From Belgium
You may also like:
Loading...