Jul 3, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

स्त्री सिर्फ तब तक तुम्हारी होती है

स्त्री सिर्फ तब तक
तुम्हारी होती है
जब तक वो तुमसे
रूठ लेती है,लड लेती है
आंसू बहा बहाकर ,
और दे देती है
दो चार उलाहना तुम्हे।
कह देती है
जो मन में आता है उसके
बिना सोचे,बेधडक
लेकिन जब वो देख लेती है
उसके रूठने का,
उसके आंसुओं का
कोई फर्क नहीं है तुम पर
तो एकाएक वो
रूठना छोड देती है
रोना छोड देती है।
मुस्कुराकर देने लगती है
जवाब तुम्हारी बातों पर,
समेट लेती है वो खुद को
किसी कछुए की तरह
अपने ही कवच में ,
और तुम समझ लेते हो
कि सब कुछ ठीक हो गया है।
तुम जान ही नही पाते
कि ये शांत नही है
मृतप्राय हो चुकी है,
कहीं न कहीं
गला घोंट दिया है
उसने अपनी भावनाओं का ,
और अब जो तुम्हारे पास है,
वो तुम्हारी होकर भी
तुम्हारी नहीं है।
क्योंकि स्त्री ,
सिर्फ तब तक
तुम्हारी होती है
जब तक….

1 Like · 1493 Views
योगिता
योगिता
23 Posts · 3.6k Views
Follow 1 Follower
कर्तव्य से प्रशासनिक अधिकारी एवं हृदय से कला प्रेमी।आठ वर्ष की उम्र से विभिन्न विधाओं... View full profile
You may also like: