Skip to content

**औरत का सम्मान हम सबका सम्मान**

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

March 8, 2017

माँ बहन बेटी बहु ये रूप अनेकों रखती है !
कोमल कोमल दो हाथों से काम हजारों करती है !
सारा दिन ये काम करे पर फिर भी नहीं ये थकती है !
औरत ही वो हस्ती है जो हर इक दिल में बसती है !
हर घर में वास है इसका रूप चाहे फिर जो भी हो !
सबको प्यार ये देती है फिर रिश्ता चाहे जो भी हो !
अपने और गैर में भेद नहीं मान ये सबका करती है !
अपनी ख़ुशी से ज्यादा ये ध्यान अपनों का रखती है !
औरत का दिल दरिया है प्यार की ये मूरत है !
छोटा हो या बड़ा चाहे हर जन को इसकी जरूरत है !
माँ बहन बेटी बहु जो करें हजारों काम !
क्या फर्ज हमारा नहीं बनता इनको हम सब दें सम्मान ?
इनको हम सब दें सम्मान इनको हम सब दें सम्मान …!!

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
आने - जाने पे वो सबपे  नज़र रखती है
आने - जाने पे वो सबपे नज़र रखती है किसके दिल में है क्या ये भी ख़बर रखती है कैसा माहौल हो वो सबमें ही... Read more
******वो******
नारी दिवस पर मेरी एक कविता.......पसंद आए तो लाइक और कमेंट जरूर करें | **************वो.......*********** हर सांस हर घडी सबकी खुशियां चाहे वो, हर पल... Read more
शायरी :-- मुराद पूरी नहीँ हुआ करती !!
शायरी :-- मुराद पूरी नहीं हुआ करती !! यूँ तो दिल की मुराद हमेशा पूरी नहीँ हुआ करती ! क्योंकि हर माँगी मुराद नूरी नहीं... Read more
जिश्म में छूपा दोपहर रखती है
वो होठों में अपने गंगा सा जल रखती है हर पल जाने क्यों मुझ पे नजर रखती है गुलसनों की बात उसके सामने क्यो करूँ... Read more