**औरत का सम्मान हम सबका सम्मान**

माँ बहन बेटी बहु ये रूप अनेकों रखती है !
कोमल कोमल दो हाथों से काम हजारों करती है !
सारा दिन ये काम करे पर फिर भी नहीं ये थकती है !
औरत ही वो हस्ती है जो हर इक दिल में बसती है !
हर घर में वास है इसका रूप चाहे फिर जो भी हो !
सबको प्यार ये देती है फिर रिश्ता चाहे जो भी हो !
अपने और गैर में भेद नहीं मान ये सबका करती है !
अपनी ख़ुशी से ज्यादा ये ध्यान अपनों का रखती है !
औरत का दिल दरिया है प्यार की ये मूरत है !
छोटा हो या बड़ा चाहे हर जन को इसकी जरूरत है !
माँ बहन बेटी बहु जो करें हजारों काम !
क्या फर्ज हमारा नहीं बनता इनको हम सब दें सम्मान ?
इनको हम सब दें सम्मान इनको हम सब दें सम्मान …!!

Like 2 Comment 0
Views 1.8k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing