Skip to content

ओज- कविता (धधकती आग है दिल में)

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

गीत

October 25, 2016

धधकती आग है दिल में
——————————-
धधकती आग है दिल में जो हर पल ही सुलगती है ,
जिन्दगी हो रही धूआँ कभी अंगार लगती है ।
जमाना कह रहा मुझसे बगावत करने लग जाऊँ ,
जमाने को बदलने की एक आरजू सी पलती है ।।
धधकती……
जमाने से हूँ मैं घायल और पत्थर न बरसाओ ,
पत्थरों की तरह निर्मम निर्दय मुझको न बनाओ ।
पत्थरों पर सुमन बरसाने की चाहत मचलती है ।।
धधकती ………..
िसी से है न गिला शिकवा मुकद्दर से हूँ मैं हारा ,
मेरी तकदीर ने कर दिया है मुझको ही बेचारा ।
चलता हूँ मैं उससे आगे मेरी तकदीर चलती है ।।
धधकती………….
नहीं फिर भी मैं बेबस नहीं बेचारा भी मैं हूँ ,
टूट – टूट कर मुकद्दर से न अब तक हारा भी मैं हूँ ।
मेरी हिम्मत मेरे हौसलों को हरपल ही बदलती है ।। धधकती ……..
:- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।
Recommended Posts
मैं इश्क करने आया हूँ ।
Govind Kurmi शेर Dec 8, 2016
इसारा कर ऐ जिंदगी, मैं कुर्बान होने आया हूँ । नफरत भरे दिल में, वफ़ा का तोहफ़ा लाया हूँ । भुला सके तो भुला मुझे,... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
कहानी लंबी है पर छोटा  सा किरदार  मैं  भी  रखती हूँ..
कहानी लंबी है पर छोटा सा किरदार मैं भी रखती हूँ ज़माने के साथ चल सकूँ इतनी रफ़्तार मैं भी रखती हूँ नारी हूँ मैं... Read more
बहुत कुछ बोलता हूँ ।।
लक्ष्य से भटकी हुई एक नाव सा । पतझड़ी वन में, मैं तरुवर ढ़ाक का शांत बेसुध, सा खड़ा हूँ। जिद्द जड़ों में आज भी... Read more