ओजोन परत

मनीभाई की कविता

ओजोन परत
★★★★★

(16 सितंबर विश्व ओजोन दिन विशेष)
●●●●●●●●●●●●●●●●π
सूरज है आग का गोला ।
जलता है ,बनकर शोला ।
किरणों में है ,पराबैंगनी ।
सबके लिए ,घातक बनी।

धन्यभाग, हम मानव का।
जो कवच है इस धरा का।
ओज़ोनपरत वो कहलाए।
घातक किरणें आ ना पाए।

आज छेद होने का है डर ।
भोग विलास का है असर ।
एसी फ्रिज उर्वरक से रिसे।
क्लोरोफ्लोरोकार्बन  गैसें ।

यह नहीं, पानी में घुलती ।
पर्त में सीधे हमला करती।
जहर ओजोनछिद्र बनाता।
पराबैंगनी सीधे धरा आता।

फैले कैंसर ,चर्म-नेत्र रोग ।
हाहाकार करते सब लोग ।
नहीं खतरा एक ही देश को।
चेतावनी है मानव लोक को।

प्रदूषण कम करें,बचायें जान।
मिलजुल कोशिश से आसान।
संभलजा तू! अभी मुमकिन ।
कहे16 सितंबर ओजोन दिन।
(?मनीभाई)

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 1
Views 902

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share