.
Skip to content

** ऐ हुस्नवाले **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

गज़ल/गीतिका

March 6, 2017

ऐ हुस्नवाले तूं इश्क का एहतिराम कर

यूं ठुकरा ना बेदर्दी इबादत-ए-इश्क ।

तेरी फ़ितरत नही क्या फ़जल-ए-दोस्त

अदावत है किस वज़ह से इजहार कर।

क्या एतबार नहीं मेरे इश्क पे हमदम

निहायत है मुफ़ीद तिजारत-ए-इश्क।

अब करदे हवाले हुस्न मेरे मरहम

ऐ हुस्नवाले तूं इश्क का एहतिराम कर
।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
*दिलजलों की तो जलने की आदत होती है *
कल्बे-सोजा जलते रहेंगे मुहब्बत के चिराग से दिल का हाल पूछो तुम उनसे जिसने ज़ाम-ए-मय पिया हो इश्क का फ़कत जीने के लिए मुहब्बत ना... Read more
***     ऐ चाँद  ***
ऐ चांद ? तेरी रौशनी दुनियां को शीतल कर दे मेरे हृदय की आग को क्यों ठण्डा नहीं करती ऐ चांद ?क्या तुम भी भेदभाव... Read more
*   गीत:-  ऐ राधा ऐ राधा *
ऐ राधा ऐ राधा तेरे प्यार को मैं अब कौन सा नाम दूं दिल मेरा है तेरा इसे कौन सा नाम दूं ऐ राधा ऐ... Read more
ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे,
ऐ फरेब-ए-दिल एक मशवरा कर दे, तू उसके खयालो को रवाना कर दे, गर बुलाना हो निगाहों से इशारा कर दे, दिल में सुलगते शोलो... Read more