Skip to content

ऐ वतन तेरे लिए यह जान भी क़ुरबान है

हिमकर श्याम

हिमकर श्याम

गज़ल/गीतिका

August 15, 2016

दिल में हिंदुस्तान है, सांसों में हिंदुस्तान है
ऐ वतन तेरे लिए यह जान भी क़ुरबान है

नाज़ हमको है बहुत गंगो जमन तहज़ीब पर
अम्न का पैगाम अपनी खूबियाँ पहचान है

हिन्द की माटी में जन्मे सूर, मीरा जायसी
मीर, ग़ालिब की जमीं ये, भूमि ये रसख़ान की

धर्म, भाषा, वेशभूषा है अलग फिर भी मगर
मुल्क़ की जब बात होती सब लुटाते जान हैं

खूँ शहीदों ने बहाया, हँस के फाँसी पर चढे
है अमिट पहचान उनकी, याद हर बलिदान है

सर कटाना है गवारा पर झुकेगा सर नहीं
हर जुबाँ पर गीत क़ौमी, ये तिरंगा शान है

बाइबिल, गुरु ग्रन्थ साहिब, वेद ओ’ क़ुरआन है
नाम सबके हैं अलग पर, एक सबका ज्ञान है

राष्ट्र का हो नाम ऊँचा, क़ौमी यकजहती रहे
फ़िक़्र में सबके वतन हो, बस यही अरमान है

ख़ाक बन हिमकर इसी माटी में रहना चाहता
गूँजता सारे जहाँ में हिन्द का यश गान है

© हिमकर श्याम

Author
हिमकर श्याम
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर http://himkarshyam.blogspot.in https://doosariaawaz.wordpress.com/
Recommended Posts
हिंदुस्तान
हिंदुस्तान आएगा !! मेरा ये हौसला देखो वतन के काम आएगा; तिरंगे की हिफाज़त में ये हिंदुस्तान आएगा !! जवानी वो नही होती जो यूँही... Read more
हँसते हँसते अपने वतन पर कुर्बान हो गए/मंदीप
हँसते हँसते अपने वतन पर कुर्बान हो गए/मंदीप हँसते हँसते अपने वतन पर कुर्बान हो गए, हम तो मर कर भी अमर हो गए। खाई... Read more
नाम जवानी लिख देंगे .......डी. के. निवातियां
नाम जवानी लिख देंगे ....... हम देश प्रेमी है, अपनी जान हथेली रख देंगे वतन की रखवाली पे नाम जवानी लिख देंगे ! इस दुनिया... Read more
****   बीमार   ****
मै तेरे प्यार का बीमार हूँ ऐ जाने जिगर । तेरे प्यार की हर स्वांस से जिन्दा हूँ मगर । रफ़्ता-रफ़्ता ये जिंदगी मेरी चलने... Read more