23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

ऐ जिन्दगी

ऐ जिन्दगी

जख्मों को अब तू नुमाया न कर।
लफ्ज़ों को ऐसे ही ज़ाया न कर।।
सीधी सच्ची बात बोल मुँह पर
बातों को गोल गोल घुमाया न कर।।
झेल रहे है हँस कर ऐ जिन्दगी
पर तू हँसी में आँसू ,मिलाया न कर।।
हकीकते तेरी जब कङवी है तो
मीठे सपने भी तू दिखाया न कर।।
कङी धूप में चलना है हमे तो
चाँदनी का हमपे तू साया न कर।।
पत्थर के बुत मिलेगे बहुत
सजदे में यूँ ही झुक जाया न कर।।
सुरिंदर कौर

3 Likes · 4 Comments · 30 Views
surinder kaur
surinder kaur
amritsar
6 Posts · 289 Views
सुरिंदर कौर मेरा नाम सुरिंदर कौर है। मैं एक रिटायर अध्यापिका हूं। साहित्य से मेरा...
You may also like: