Feb 28, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

ऐ जिन्दगी

(1)????
ऐ जिन्दगी किससे शिकायत करूँ
सोना भी छुआ तो कोयला बन गया।
रफ्ता -रफ्ता मेरे सभी अरमान जल गए
जख्मी हृदय पर अनगिनत फफोला बन गया।
????

(2)????
ऐ जिन्दगी
आ तुझे हँसना सिखा दूँ।
जख्मी दिलों पर
आ मैं थोड़ा मलहम लगा दूँ।
????—लक्ष्मी सिंह??

145 Views
Copy link to share
लक्ष्मी सिंह
827 Posts · 274k Views
Follow 52 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: