ऐ जिन्दगी

(1)????
ऐ जिन्दगी किससे शिकायत करूँ
सोना भी छुआ तो कोयला बन गया।
रफ्ता -रफ्ता मेरे सभी अरमान जल गए
जख्मी हृदय पर अनगिनत फफोला बन गया।
????

(2)????
ऐ जिन्दगी
आ तुझे हँसना सिखा दूँ।
जख्मी दिलों पर
आ मैं थोड़ा मलहम लगा दूँ।
????—लक्ष्मी सिंह??

Like Comment 0
Views 117

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share