.
Skip to content

ऐ खुदा जाने

Hansraj Suthar

Hansraj Suthar

गज़ल/गीतिका

April 19, 2017

चंद खुशियो के बदले बेशुमार गम दिया है
ऐ खुदा जाने केसा ये सनम दिया है

एक आह को जाने कितना मरहम दिया है
ऐ खुदा जाने क्यों अब गहरा ज़ख्म दिया है

इश्क़ दिखती खुशि है , मगर हर गम दिया है
ऐ खुदा जाने क्यों जालिम इश्क़ को जन्म दिया है

ठोकरे राहो में मिली उसने सहारा हरदम दिया है
ऐ खुदा बदली ना राहे फिर भी क्यों फासला एक दम दिया है

चाहा हमने है उनको चाहत उसे अब नही हमारी
ऐ खुदा जाने वो होगी हमारी ये वहम दिया है

Author
Hansraj Suthar
Recommended Posts
आपसे हूँ
आपसे हूँ अब गुलजार खुदा जाने क्यों हर बुरे वक्त तू आधार खुदा जाने क्यों लाड़ मेरे अन्दर था निकला वो वाहर हो गयी है... Read more
आपसे हूँ गुलजार
आपसे हूँ अब गुलजार खुदा जाने क्यों हर बुरे वक्त तू आधार खुदा जाने क्यों : पास वो आकर बातें जब करता मीठी है बढी... Read more
*गज़ल*
जान जाने के हैं' आसार खुदा जाने क्यों आप से हो गया' है प्यार खुदा जाने क्यों बात जिनमें हो तुम्हारी ही तुम्हारी केवल अच्छे... Read more
हालात
मैं आशुफ्ता हो गया हूँ जाने ये कैसे हो गया। नाग सा अब मैं तड़पता, मणि है मेरा खो गया। किस इल्लत की ऐ खुदा,... Read more