.
Skip to content

ऐसे मात-पिता पाए (ताटक छंद)

लक्ष्मण रामानुज लड़ीवाला

लक्ष्मण रामानुज लड़ीवाला

कविता

February 21, 2017

सुंदर घर ये देखो अपना, माँ बापू की यादे है
वही बसाता घरको देखो, जिसके नेक इरादे है |
माँ बापू ने इसे बसाया, अपने खून पसीने से
पाला पोसा सब बच्चों को, सदा लगाया सीने से |

तिनका तिनका जोड़ रहे थे, सुख की चैन नहीं सोये
करी सिलाई खुद हाथों से, बच्चों के कपडें धोये |
रूखा सुखा खाकर पाला, बिसरायी सब इच्छाएं
यही कामना रही ह्रदय में, बच्चों में खुशियाँ छाये |

गर्व हमें भी है इसका तो, ऐसे मात-पिता पाए,
त्याग किया सर्वस्व जिन्होने,शिक्षा हमें दिला पाए |
हमको जो संस्कार मिले है. वह बच्चो को दे जाए,
यही प्रार्थना करूँ ईश से, वे कर्त्तव्य निभा पाए |
(2) पीड़ित है जनता सारी
आम आदमी संकट में है,कुछ भी राह नहीं पायी
मनमानी पर उतरे नेता, आजादी उनको भायी |
बाढ़ सामने या अकाल है, महँगाई बहती जाती
आँखे पथरा रही कृषक की,खेती रास नहीं आती |

नील गगन से बादल गायब, नहीं बरसता है पानी,
इंद्रदेव भी रुष्ट हुए है, करते अपनी मनमानी |
अफरा तफरी मची हुई है, पीड़ित है जनता सारी
ताल तलैया सूख गये सब, पशुओ का मरना जारी |

कर्त्तव्यों को भुला चुके सब, बस अधिकार जताते है
शासन-सत्ता नेता-जमता. डफली खूब बजाते है |
रहा न कोई न्याय नियन्ता,अन्धा न्याय पड़े भारी
सत्य अहिंसा चले कहाँ तक, आहत है जनता सारी |

– लक्ष्मण रामानुज लडीवाला

Author
लक्ष्मण रामानुज लड़ीवाला
कवि एवम् गीतकार
Recommended Posts
माँ
माँ का हृदय नदी सा, जिसमें बहती ममता की धारा । माँ का वात्सल्य अंबर सा,जिसमें समाहित जग सारा ।। माँ दुख न बाँटती अपना,... Read more
हमारे मात पिता
ईश्वर का अवतार हैं जो वही हमारे मात पिता हमको जिसने जन्म दिया वही हमारे मात पिता हमको जिसने पाला पोसा वही हमारे मात पिता... Read more
ओ माँ, ऐ माँ, ....................|गीत| “मनोज कुमार”
ओ माँ, ऐ माँ, मेरी माँ, ओ माँ मेरी किस्मत का खजाना तू ही तू ही माँ इन आँखों की खुशियाँ रहमत तू ही माँ... Read more
!! पिता - पिता होता है !!
जन्म देती है माँ वो विधाता की देंन है पिता भी तो उसी ऊपर वाले की ही देन है चाहे कुछ भी हो पालता है... Read more