.
Skip to content

* ऐसा क्यूं होता है ?

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

गीत

January 27, 2017

जाने ऐसा क्यूं होता है ?
जब मैं अपने से जुदा होता हूं
तन्हा-तन्हा मैं क्यूं होता हूं ?
जाने ऐसा क्यूं होता है ?
जब मैं अपनों से जुदा होता हूं ।
एक अजनबी सा डर लगता है
जब मैं अपनों से जुदा होता हूं ।
मेरे अपने नहीं लगते अपने
जब मैं अपनो को
बेगाना-सा लगता हूं ।
ऐसा क्यूं होता है ?
मेरी तन्हाई ओर की तन्हाई में
फर्क इतना सा मगर होता है ।
लोग तन्हाई में अकेले होते हैं
मैं महफ़िल में अकेला होता हूं
जाने ऐसा क्यूं होता है ?
दर्द बढ़ता है दर्दे दुआ करने से
फिर दर्दे-दवा की परवाह क्यूं है
जाने ऐसा क्यूं होता है ?
मैं करता हूं मुहब्बत जिससे वो
क्यूं नफ़रत करता है मुझसे ?
जाने ऐसा क्यूं होता है ?
जाम-ए-महफ़िल में होके शामिल
मैं बेनशा क्यूं होता हूं ?
जाने ऐसा क्यूं होता है ?
जब मैं अपने से जुड़ा होता हूं
तन्हा-तन्हा मैं क्यूं होता हूं ?
जाने ऐसा क्यूं होता है ?
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
बचपन
मैं अक्सर सोचती हूं रात के गहरे अंधेरो में न जाने क्यूं वो बीते पल अभी भी मुझमें ज़िंदा हैं मुझे अक्सर ही लगता है... Read more
वो मुझको सताने लगी है
आज मुझे मेरी तन्हाई भाने लगी है ना जाने क्यूं मुझे वो चाहने लगी है तन्हा हूं मगर जब लेता अंगड़ाई हूं लगता है वो... Read more
हूं मैं कहां...
मैं रहती हूं, पर हूं कहाँ। मैं सहती हूँ, पर हूं कहाँ। मैं डरती हूं, पर हूं कहाँ। मैं मरती हूं, पर हूं कहाँ। मैं... Read more
**ख्वाबों की फस्लें आज भी मैं बोया करता हूं**
एक पुरानी गज़ल- **ख्वाबों की फसलें आज भी मैं बोया करता हूं::गज़ल** हक़ीक़त जान ले कि रात भर मैं रोया करता हूं, बहुत हैं दाग... Read more