ऐसा करने से पहला प्यार हमेशा साथ रहता है।

नयन नयन से दिल मिले, समझें ज्यों अधिकार ।
होती अनबन जब शुरू, समझें त्यों व्यवहार ।।
समझें त्यों व्यवहार, कुछ नहीं अब हो पाता,
कहते फिरे फिर तब, प्रथम प्रेम न मिल पाता ।
कह आर्यन सभी से, करो गुण दोष का मिलन,
रहे प्रेम साथ तब, बहे कभी न अश्रु नयन ।।

रघु आर्यन नंदवल बहराइच/अल्लापुर इलाहाबाद

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share