.
Skip to content

ऐसा करने से पहला प्यार हमेशा साथ रहता है।

रघु आर्यन

रघु आर्यन

कुण्डलिया

October 4, 2017

नयन नयन से दिल मिले, समझें ज्यों अधिकार ।
होती अनबन जब शुरू, समझें त्यों व्यवहार ।।
समझें त्यों व्यवहार, कुछ नहीं अब हो पाता,
कहते फिरे फिर तब, प्रथम प्रेम न मिल पाता ।
कह आर्यन सभी से, करो गुण दोष का मिलन,
रहे प्रेम साथ तब, बहे कभी न अश्रु नयन ।।

रघु आर्यन नंदवल बहराइच/अल्लापुर इलाहाबाद

Author
रघु आर्यन
           ------लेखक परिचय----- नाम ------------  रघु आर्यन  जन्मतिथि ----- 15/02/1993 जन्मस्थान ----- ग्राम व पोस्ट नंदवल, जिला बहराइच,                        उत्तर प्रदेश  पता ------------- ग्राम व पोस्ट... Read more
Recommended Posts
भरोसा
भरोसा तोड़ने वाले ------------ भरोसा तोड़ देते हैं अगर अवसर मिले तो दिल का शीशा तोड़ देते हैं बड़े लोभी हैं ये कपटी --कभी विश्वास... Read more
नयन में उतर जाओ
*मुक्तक* नयन के द्वार से आकर मे'रे उर में उतर जाओ। महक बन प्रेम के गुल की हृदय में तुम बिखर जाओ। सकल - जग-... Read more
पाती प्रेम की
पाती प्रेम की शब्द शब्द है मुखर नेह अनुवादों की अक्षर अक्षर गमक रहा सुगंध देह की फ़ैली स्याही महकी जैसे यादों की मन में... Read more
प्रेम मोल....
II छंद - उल्लाला II कान्हा नयन बह रहे, सुदामा चरण धुल रहे I निर्मल छवि ये देख के,सब लोक धन्य हो रहे II प्रेम... Read more