.
Skip to content

ऐसा अपना टीचर हो

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

कविता

August 28, 2016

मेरी बाल्यकाल की एक रचना , पुरानी भावनाये ताजा होने पर आपसे सांझा करने का मन हुआ ।
।।।।।।।।ऐसा अपना टीचर हो।।।।।।।

ऐसा अपना टीचर हो
अच्छा जिसका नेचर हो
मुख पर हर दम स्माइल हो
ऐसा उसका स्टाइल हो
जिद का वो अड़ियल हो
अंदाज न उसका सड़ियल हो
सादगी की मिसाल हो ।
आवाज में मिठास बेमिसाल हो ।
पढ़ाई का ऐसा जादू कर डाले
खेल खेल में हर चैप्टर कर डाले
ऐसी बात वो कहता हो ।
सबके हर्ट में रहता हो ।
कर दे वो ऐसी मेहरबानियाँ
याद करूँ मैं हरदम, उसकी कुर्बानियां
© कृष्ण मलिक 31.03.2014

Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more
Recommended Posts
ऐसा नहीं होता
ऐसा नहीं होता हर रोज़ बस इतवार हो ऐसा नहीं होता भोली सूरत वाले सारे अय्यार हो ऐसा नहीं होता पत्थर पे फूल उगने के... Read more
हम उनकी यादों में
हम उनकी यादों में कुछ इस क़दर खोये रहते है। ख़्वाबों में अक्स उनका संजोए रहते है। चलती फ़िज़ाए भी एहसास उसका कराती है। कुछ... Read more
एक ऐसा था इंसान
वो दुनियाँ के गम ले रहा था बाँट रहा था खुशियोँ के पल वो हंस रहा था गम ले के पथ से हटा रहा था... Read more
ग़ज़ल रचनाएँ
मिट्टी से भी खुशबू आये गाँव हमारा ऐसा है,,,,,,,,, जैसे खोई जन्नत पाये गाँव हमारा ऐसा है ।।।।।।।।। तेरी आँखो का हर आँसू पौँछे प्यार... Read more