ऐ!मेरी बेटी

??????
ऐ मेरी बेटी!
मैं दुनिया से लड़ कर,
तुम्हें इस दुनिया में लाई हूँ ।
मैं माँ! हूँ, माँ!
नहीं कोई कसाई हूँ ।
??????
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बन कर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
वारिस चाहिए था घर को,
इस घर का मान रखना ।
गृहलक्ष्मी का रूप बन कर,
आसमान से जमीन पर,
तुम स्वर्ग ला कर रखना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।
??
प्रगति के मार्ग पर तुम,
निर्भय, निडर तुम बढना ।
मिले रास्ता कठिन तुम,
हिम्मत से आगे बढ़ना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
रास्ते के चट्टानों, तुफानों से ना डरना ।
हौसला से आगे बढ़ना,
मंजिल पर ही जाकर रूकना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
अपना हो या पराया
सबको गले लगाना ।
हर दुखियों के दिल में,
तुम रंग खुशी के भरना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
दुनिया में मानवता का,
तुम दीया जलाना ।
कुछ काम ऐसा करना,
सदियों तक याद करे जमाना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
???? —लक्ष्मी सिंह

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 12.5k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share