ऐ!मेरी बेटी

??????
ऐ मेरी बेटी!
मैं दुनिया से लड़ कर,
तुम्हें इस दुनिया में लाई हूँ ।
मैं माँ! हूँ, माँ!
नहीं कोई कसाई हूँ ।
??????
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बन कर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
वारिस चाहिए था घर को,
इस घर का मान रखना ।
गृहलक्ष्मी का रूप बन कर,
आसमान से जमीन पर,
तुम स्वर्ग ला कर रखना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।
??
प्रगति के मार्ग पर तुम,
निर्भय, निडर तुम बढना ।
मिले रास्ता कठिन तुम,
हिम्मत से आगे बढ़ना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
रास्ते के चट्टानों, तुफानों से ना डरना ।
हौसला से आगे बढ़ना,
मंजिल पर ही जाकर रूकना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
अपना हो या पराया
सबको गले लगाना ।
हर दुखियों के दिल में,
तुम रंग खुशी के भरना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
??
दुनिया में मानवता का,
तुम दीया जलाना ।
कुछ काम ऐसा करना,
सदियों तक याद करे जमाना ।।
??
मेरी बेटी नहीं, मेरा अभिमान बनकर रहना ।
दुनिया में अपना नाम, सबसे ऊँचे शिखर पर रखना ।।
???? —लक्ष्मी सिंह

Like Comment 0
Views 12.5k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share