Nov 5, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

ए खुदा तू बता दे,प्यार क्या चीज है

1.सांसे थम सी गई,समय थम-ता नहीं
आँखें नम सी हुई,शीश नम-ता नहीं
भावना के खेत में,बोया किसने बीज है
ए खुदा तू बता दे,प्यार क्या चीज है

2.इस कुदरत का कैसा सावन भादव मिलाप है
मीन-नीर के प्रीत से बिछड़ने का बिलाप है
जाति-पाति के जाल का,मछुआरा समाज है
ए ख़ुदा तू बता दे,प्यार क्या चीज है

3.बसंत की महिमा का किसको भान है
प्रेमी-प्रेमिका ही ज्योतिष विज्ञान है
प्रकृति की इस कला पर हमको नाज़ है
ए खुदा तू बता दे,प्यार क्या चीज है

4.ये बीजक की,मंजिल की पहली सीढ़ी है
मानव महत्वता ही इसकी रीढी है
इसमें शैवालिनी समानता सा धीरज है
ए ख़ुदा तू बता दे,प्यार क्या चीज है

5.प्रेम प्यार संसार में ईश्वरी वरदान है
सार में सबसे महान कन्या-दान है
मेरी प्रिय-त्मा तेरे-मेरे कुनबे की लाज है
ए खुदा तू बता दे,प्यार क्या चीज है
राइटर:- इंजी०नवनीत पाण्डेय सेवटा(चंकी)

3 Likes · 2 Comments · 39 Views
Copy link to share
ER.NAVANEET PANDEY
94 Posts · 5.6k Views
Follow 4 Followers
नाम:- इंजी०नवनीत पाण्डेय (चंकी) पिता :- श्री रमेश पाण्डेय, माता जी:- श्रीमती हेमलता पाण्डेय शिक्षा:-... View full profile
You may also like: