Skip to content

एहसास

Neeru Mohan

Neeru Mohan

लघु कथा

June 30, 2017

यह कथा एक सत्य घटना पर आधारित है गोपनीयता बनाए रखने के लिए पात्रों के नाम और जगह बदल दिए गए हैं|
*मीना बनारस के एक मध्यम वर्गीय परिवार से संबंध रखती है| परिवार में पति मनीष के अलावा सास-ससुर और मीना की दो वर्ष की एक सुंदर-सी बिटिया है| मीना की माता जी का देहांत उसकी बेटी के जन्म के छह माह पश्चात ही हो गया था| मीना अभी तक अपनी माँ के चले जाने के दुख दर्द को नहीं भुला पाई है|

*इसी बीच मीना गर्भवती हो जाती है मगर घर के झगड़ों के कारण मीना और मनीष अभी दूसरी संतान नहीं चाहते वह पूरा यत्न करते हैं कि बच्चे का गर्भपात स्वयं ही हो जाए| कहते हैं कि विधि के विधान को कोई नहीं ठुकरा सकता उसके आगे किसी की भी नहीं चलती| मीना का गर्भपात नहीं होता| मनीष अभी दूसरे बच्चे का खर्चा वाहन नहीं कर सकता पर मनीष की माँ को घर का वारिस चाहिए| माँ मनीष से कहती हैं कि वह खर्चे की चिंता न करे अपने पोते का सारा खर्चा वह स्वयं वाहन करने के लिए तैयार हैं| मनीष को इसकी चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है|

*मीना का गर्भ चार महीने का हो गया है वह अब स्वयं भी नहीं चाहती कि उसका गर्भपात हो| वह बच्चे को जन्म देना चाहती है| लड़का हो या लड़की मीना को इसकी चिंता नहीं है| मीना का यह मानना है कि बच्चा अपना नसीब लेकर आता है इसके लिए न तो मनीष और न ही उसकी माँ को कोई चिंता करनी चाहिए| मनीष की माँ मीना की इस अवस्था में भी उससे झगड़ा करती रहती है| रोज-रोज के झगड़ों से तंग आकर मनीष अलग हो जाता है| बहु बेटे को घर से जाता देखकर मीना की सास उन्हें नहीं रोकती| मीना और मनीष अलग घर लेकर रहने लगते हैं| ऐसी अवस्था में मीना अपने आप को अकेला महसूस करती है उसको तरह-तरह की चीजें खाने का मन करता है मनीष मीना का हर तरह से ख्याल रखता है मगर नौकरी के कारण पूरा दिन घर पर नहीं रह सकता|

*एक दिन मीना घर के कार्यों से निवृत होकर अपनी माँ को याद करते-करते सो जाती है| सपने में ही उसे काजू खाने का मन होता है उसे सपने में ही माँ की बहुत याद आती है सपने में ही माँ मीना के दिल की बाद समझ जाती है और उसे काजू का एक पूरा पैकेट खिला कर चली जाती है| जब मीना की नींद खुलती है तो माँ को तो अपने समक्ष नहीं पाती मगर उसकी काजू खाने की तृष्णा समाप्त हो जाती है| उसकी माँ सपने में ही उसे इतने सारे काजू खिला कर चली जाती है कि नौ महीनों तक मीना को काजू खाने का मन ही नहीं होता| उस दिन के बाद जब-जब मीना को कुछ खाने का मन होता है तब-तब मीना की माँ सपने में मीना को वह सारी चीजें खिलाकर जाती है जो वह खाना चाहती है| माँ की ममता और उसका मातृत्व ऐसा ही होता है जो अपने बच्चों के दिल की बात बिना कहे ही समझ जाता है| माँ-बाप बच्चों को तकलीफ में नहीं देख सकते चाहे वह हों या न हों मगर अपने होने का एहसास दिलाकर बच्चों को मुश्किलों से लड़ने का साहस और ताकत देते हैं|

*मीना ने नौ महीने बाद एक बेटे को जन्म दिया| बेटे का नयन, नक्श, रंग सभी मीना की माँ पर थे और तो और नामकरण के समय उसका नाम भी मीना की माँ के नाम के प्रथम अक्षर से निकला| आज मीना का बेटा सोलह साल का हो गया है| उसके बेटे में वह सारे गुण हैं जो उसकी माँ में थे| वह दयालु है| सब की सहायता करता है| नम्र व्यवहार का है| सबके प्रति दया भाव, ममता, आदर- सत्कार यह सभी गुण उसके बेटे में आए हैं बिल्कुल मीना की माँ की तरह और मीना का भी ख्याल वह बिल्कुल उसकी माँ की तरह ही रखता है| एक माँ के खोने का दर्द क्या होता है यह सिर्फ वही जान सकता है जिसने अपनी माँ को खोया हो| उस दर्द को सहा हो| मीना आज अपनी माँ के न होने के दुख से धीरे-धीरे पार उतर रही है क्योंकि मीना को आज ऐसा एहसास होता है कि उसके बेटे के रूप में उसकी माँ उसके पास हमेशा विद्यमान है|

Share this:
Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you