.
Skip to content

एटम बम

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 7, 2017

जीवन के रंगमंच पर
अभिनय से पूर्व……
आओ सँवार दूँ प्रिय !
साकर करके
निज भावों को
अपने हाथों से ||
पहना दूँ ………
गजरा तेरे बालों में !
झुमके तेरे कानों में !
लगा दूँ ……….
कुमकुम का टीका भाल पर !
काजल की बिंदी गाल पर !
भर दूँ…………
तेज तेरी आँखों में !
महक तेरी साँसों में !
ताकि मैं और तुम….
एकाकार होकर !
प्रतिनिधित्व करें
जमाने में “हम” का !
और बता दे शक्ति….
इस “हम” की !
“दीपशिखा” बनकर
कि हम हम हैं !
अलग हुए……
तो कम हैं |
नहीं तो एटम बम हैं ||
——————————
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
*प्रेम रत्न बना दूँ*
*प्रेम रत्न बना दूँ* आ बाहों का हार पहना दूँ, तुझको अपनी प्रीत बता दूँ।। लगजा आज गले से मेरे, धड़कन का संगीत सुना दूँ।।... Read more
तेरी हर घड़ी और पल पल में हम हैं
तेरी हर घड़ी और पल पल में हम हैं, तेरी साँस साँस हर धड़कन में हम हैं। तेरे हर मोड़ और हर कदम पे हम... Read more
नाम कैसे दे दूँ!
तेरे मेरे सपने ... अपने प्यार को सपना नाम कैसे दे दूँ सपने तो अक्सर अधूरे ही रह जाते है अपने प्यार को धड़कन कैसे... Read more
मुक्तक
तेरे लिए हम तन्हा होते चले गये! तेरे लिए हम खुद को खोते चले गये! पास जब भी आयी है यादों की चुभन, तेरी ही... Read more