एक ग़ज़ल की शक्ल में कलम घिसाई

एक ग़ज़ल शक्ल में कलम घिसाई
******************************
मतला
*
कदमो में हिन्द के अब महताब देखता हूँ।
सारी जमी हो अपनी यह ख़ाब देखता हूँ।

कोई नही है सानी मैं हिन्द का बता दूँ।
मैं रोल इंडिया का,नायाब देखता हूँ।

नापाक वाले देखो ,सर को खुजा रहे है।
घुटनो के दम पे उनका आदाब देखता हूँ।

धारा हटी जो सत्तर,जी भर के रो रहा है।
अश्को भरे रुदन का, सैलाब देखता हूँ।

है बर्फ से भी शीतल,ऊपर से तो वो यारो।
लेकिन भरा जो अन्दर ,तेजाब देखता हूँ।

दुनियाँ में जिसने जाकर,इक खलबली मचा दी।
भारत की जो है ताकत ,असबाब देखता हूँ।


बिखरा है ज़र्रा ज़र्रा ,चारो तरफ तुम्हारे।
सिमटे नही जो तुमसे,सीमाब देखता हूँ।

हैं चीन के जो जूते, अच्छे तुझे क्यूँ लगते।
इनमे फ़टे पुराने जुर्राब देखता हूँ।

मक़्ता

‘मधु’ गिर गये है प्यारे,जो थे विकेट सारे।
हाथों में मेरे अब में ,अलक़ाब देखता हूँ।

********************************

*कलम घिसाई*

अलक़ाब — ट्रॉफी ख़िताब
सीमाब – पारा
असबाब — माल,ताकत

सहायक धुन— हो रात के मुसाफिर

2 Likes · 26 Views
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर...
You may also like: