.
Skip to content

एक हलचल सी है

Sonika Mishra

Sonika Mishra

गीत

October 12, 2016

हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।
तुमसे मिले तो, आहट सी है ।।
खोकर भी जाना, पाकर भी जाना ।
कोई नहीं है, सबसे दिवाना ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

रहते तो थे हम, दिल में किसी के ।
कहते भी थे हम, आखों की नमी से ।।
कोई नहीं जो, साथ चलेगा ।
दो पल हसाया, तो रोना पड़ेगा ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

जीवन का तो, अंदाज यही है ।
लगता जो अपना, अपना नहीं है ।।
खोकर खुद में, जान गये है ।
हम है अकेले, मान गये हैं ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

सोनिका मिश्रा

Author
Sonika Mishra
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
Recommended Posts
कहाँ आ गए हम
ये कौन सी मंजिल,कहाँ आ गये हम. धरा है या क्षितिज,जिसे पा गये हम. ज़िंदगी के इस मोड़ पे मिले हो तुम, सारा जहाँ छोड़,तुम्हें... Read more
आज मौन में कुछ हलचल सी है , नयनों में कुछ कल - कल सी है | उर -आँगन में मचली गूंज सी है ,... Read more
मद्धम-मद्धम......
हलचल सी हुई कुच्छ मद्धम-२ आहट सी हुई कुच्छ मद्धम-२ झरोखों से ज़रा झाँक के देखूँ दस्तक सी हुई कुच्छ मद्धम-२ शायद कहीं से चाँद... Read more
मौसम
फ़रवरी की हल्की गुलाबी ठंड थी सुबह ख़ुद को कोहरे में लपेटे हुए हल्की हवाओं से ओस को संभाले थी पेड़ों से गिरती ओस बारिश... Read more