.
Skip to content

एक स्त्री मन की संवेदना- लघु काव्य

Ravindra K Kapoor

Ravindra K Kapoor

कविता

January 1, 2017

एक स्त्री मन की संवेदना- लघु काव्य

“इतनी भी नहीं तन्हा मैं
कि तुम्हें भी याद न कर पाऊँ
दूर क्षितिज पर ढूंढ रहीं
तुम्हारी ही परछाईं
देखो तो वहाँ जहां पर
मिल जाते हैं धरती आकाश
कितना सुरभित हो जाता है
ये सारा जग और आकाश।“

“I am not so lonely
That I cannot remember you
I am searching far in the horizon
An image of yours
Just look at that far far corner
Where the Earth and Sky meets
Creating an aromatic allurement
In the entire world and the sky.”
Ravindra K Kapoor
31st Dec. 2016

Author
Recommended Posts
नया साल
खड़ा हूँ दहलीज़ पर फिर एक नये साल की पोटली थामे, जिंदगी में हुए बर्बाद पलों की !! ! ! D. K Nivatiya____@@@
नोटबंदी-एक सिलसिला
कैसा विरोधाभास है ये, खाने के लाले भी हैं, और तरक्की की बात भी।
*रहमत*
छाया है इक समां सुहाना  आया लब पर एक तराना  हँसवाहिनी की रहमत से  पाया है अनमोल खज़ाना *धर्मेन्द्र अरोड़ा*
अश्रुनाद स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... लघु बूँदे ले मतवाला नभ से ऐ! नीरदमाला बुझने दे आँसू- नद से अभिलाषाओं की ज्वाला स्व- भावानुवादित Oh ! Sot... Read more