.
Skip to content

एक संतान शेर समान

guru saxena

guru saxena

घनाक्षरी

August 30, 2017

(एक संतान शेर समान”
परिवार नियोजन के इस नारे पर एक छंद)

हवा बंद है

सरकारी नौकर हूं एक पुत्र पैदा किया,
शेर के समान मान समझा आनंद है।
अपराधी पड़ोसी ने आठ का लगाया ढेर,
समझे की आवारा को आया दुख द्वंद है।
मेरा बच्चा बड़ा हुआ वे बच्चे भी बड़े हुए
वे धतूरे पूरे मेरा बेटा गुलकंद है।
आज मोहल्ले में भारी उनका है दबदबा,
मेरी और मेरे शेर की भी हवा बंद है।

गुरू सक्सेना
नरसिंहपुर (मध्यप्रदेश)

Author
guru saxena
Recommended Posts
मेरा वो आखिरी शेर
सोने से पहले लिखा गया मेरा वो आखिरी शेर ; एक पूरे सादे कागज पर तुम्हारे नाम का शेर, रात भर देता रहा आवाज़े और... Read more
चंद शेर
Brijpal Singh शेर Jun 22, 2017
बड़ा अज़ीब मिज़ाज़ है इन शहरों का हवा आती नहीं, साँस ले नहीं सकते ... #बृज कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह..... Read more
गम ये नही कि वो हमसे किनारा कर गया
Kapil Kumar शेर Aug 10, 2016
एक पुराना और पसंदीदा मेरा शेर...............आपकी नजर ये गम नही कि वो हमसे किनारा कर गया गम ये है कि वो ये हरकत दोबारा कर... Read more
है सोच बुलँद अपनी
Kapil Kumar शेर Jan 14, 2017
एक मेरा पुराना शेर.....................आपकी नजर है सोच बुलंद अपनी ,नजरिया भी न तंग रखते हैं गुलों को लगाते हैं गले ,खारो को भी संग रखते... Read more