.
Skip to content

एक शेर

jameel saqlaini

jameel saqlaini

शेर

August 1, 2016

जब खराबी आ गई किरदार में”
फिर बुलंदी आए क्या मेयार में।

Author
jameel saqlaini
Aadab ahbaab main jameel saqlaini mohtaram marhoom faani budauni sahab k sehar district badaun ke taraqqi yafta kasba ujhani u.p se hu.. ••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••• तलब है चेहरा सदाक़त का देखने की अगर" लो देखो मुझको सदाक़त का आइना'हूँ मैं।
Recommended Posts
शेर
रुला के इश्क़ में वो आबाद हो गये, उनके इश्क़ के यादों में हम बर्बाद हो गये,
शेर
कई मदारी परचम ले कर निकले हैं, बस्ती में दो-चार मदारी आने पर,, अशफ़ाक़ रशीद
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
मन की गलियाँ विरानी सी क्यूं हो गई है, मेरी मोहब्बत में क्या कमी तुमने पाई है? - पंकज त्रिवेदी
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
बड़ा रंगीला खुशहाल जटिल तो बदनाम भी था आज न होकर वो खुद अंतिम संस्कार में भी था - पंकज त्रिवेदी