.
Skip to content

“एक शेर दूसरा सवा शेर”

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

शेर

September 12, 2017

**शेर :-

तप रहा है सूरज
पर “अ इंसान”
तेरे मिजाज से ज्यादा गर्म नहीं,

दोहा:-
लाखों करोड़ो जन खड़े,रहे एक-दूजे को देख,
बिन बोले मालूम नहीं, ह्रदय क्या-क्या रहे छुपाय,

अर्थात् :-
भीड़ के मंसूबे खतरनाक,
विक्षिप्त मन और भी खतरनाक,
बिन दिशा उद्देश्य भ्रामक,
दो पैरों का सामंजस्य गति बढ़ाता है,
जीव व जीवन से प्रेम धर्म का आधार है,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
*** मुक्तक ***
आजकल शेर मांद में शिकार करने लगे है बाहर अब सियार हुआ हुआ करने लगे हैं शेर के पांव में कांटा क्या चुभा कमबख़्त जीत... Read more
मतला और एक शेर
Abhinav Saxena शेर May 11, 2017
आसमानों के ऊपर भी कहीं कुछ जमीं है क्या, तुम्हारी आँखों में अब तक वही नमीं है क्या। फुरसत के पलों में आज हमने ये... Read more
ग़ज़ल
तन्हा से छत पे बैठे हो, ठीक ठाक तो हो ? क्या बात?खुद से लड़ते हो ठीक ठाक तो हो? जगजीत सिंह को सुनते हो... Read more
साधना कर यों सुरों की, सब कहें क्या सुर मिला
साधना कर यों सुरों की, सब कहें क्या सुर मिला बज उठें सब साज दिल के, आज तू यों गुनगुना हाय! दिलबर चुप न बैठो,... Read more