23.7k Members 49.8k Posts

"एक रूपाजीवा"

एक स्त्री बिकती है, या बेच दी जाती है
जिस्मफ़रोशो की मंडी में;
संसार के लिए , खो देती है स्त्रीत्व,
न बहन, न बेटी, न बेटी, न माँ;
रह जाती है बस रूपाजीवा ..
या अनेको तिरस्कारपूर्ण नाम,
सभ्य समाज जिनसे घृणा करता है,
पर जाता है हर रात उसी मंडी…
तृप्त करने अपना पुरुषत्व,
क्यूंकि ये मंडी उसी ने बनाई है.
अपनी स्वार्थपूर्ति हेतू,
पर हाय! हम घृणा करते हैं
रूपाजीवा से … घृणा
पर नही रोकते, उन हाथों को
जो खरीदते हैं बेटियां, बेचते हैं बेटियां
और उन्हें देते हैं, घृणित जीवन
“एक रूपाजीवा”

Like 2 Comment 0
Views 104

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Simmy Hasan
Simmy Hasan
ballia. (Up) Hasansimmy@gmail.com
77 Posts · 3.2k Views
Urdu and hindi poetry writer Books: Non