.
Skip to content

एक मुक्‍तक माॅ शारदे केे चरणो में

bharat gehlot

bharat gehlot

मुक्तक

March 25, 2017

नमन है बारम्‍बार माता शारदे ,
अन्‍धकार मिटा जगती का ,
स़ष्टि को सवार दे ,
जगती में प्रकाश ज्‍योति का वार दे,
कोई ना हो अंधकार में ऐसा माॅ वरदान दे ,
शब्‍द कलम हमारी चमके ऐसा आर्शीवाद दे ,

भरत गेहलोत
जालोर राजस्‍थान
सम्‍पर्क -7742016184

Author
bharat gehlot
Recommended Posts
सरस्‍वती वन्‍दना
हे मॉं शारदे कष्‍ट तु नि‍वार दे, शब्‍दों का ज्ञान दे मॉं, तम से उबार दे मॉं, उतकंठा मन की मि‍टा मॉं, जीवन सवार दे,... Read more
जय माँ सरस्वती
हे वीणावादिनी, हे हंसवाहिनी, हे ब्रह्मचारिणी, हे वागीश्वरी, हे बुद्धिधात्री, हे वरदायनी, हे माँ शारदे, कुछ ऐसा कर दे, इस लेखनी को वर दे। .... Read more
माँ शारदे माँ शारदे
तू भूल मेरी कर क्षमा खुशियों भरा संसार दे माँ शारदे माँ शारदे, नादान हूँ पर प्यार दे मैं राह सच्ची पर चलूँ देना सदा... Read more
सरस्वती वन्दना
दे मातु शारदे सबको प्रकाश की किरण, दे मातु शारदे। ख़ुशियों की कोई अंजुमन, दे मातु शारदे। विद्या का दान, सबकी झोलियों में डाल दे।... Read more