.
Skip to content

एक मुक्तक

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

मुक्तक

May 11, 2017

एक- मुक्तक
●●●
गिरे हैं गर्त में फिर भी उंचाई ढूंढ लेंगे हम
हलाहल पी लिया लेकिन सुधा भी ढूंढ लेंगे हम
दया के नाम पर जीयें कभी ये हो नहीं सकता
अभी बाजू सलामत हैं कि रोटी ढूंढ लेंगे हम

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
मुक्तक
तेरे ख्यालों की मैं राह ढूंढ लेता हूँ! तेरे जख्मों की मैं आह ढूंढ़ लेता हूँ! ढूंढ लेती हैं मुझको तन्हाइयाँ जब भी, मयकदों में... Read more
सौगात
????सौगात. ????? मुक्तक????. ????? सौगात ये रिश्तो की हम दिल में बसाते है. सोये सोये अरमां हम उनको जगाते है. रिश्तो को मोती को धाँगे... Read more
??हम ऐसे ही जी लेंगे??
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
??हम ऐसे ही जी लेंगे?? तुझे मेरी खुशियो की परवाह नही◆◆ तो क्या हुआ●● हम तो तेरी यादो की तन्हाई में ही जी लेंगे◆◆ बेशक... Read more
तेरे सब गम चुरा लेंगे................. भी बुला लेंगे |गीत|
तेरे सब गम चुरा लेंगे तेरे सब दर्द मिटा देंगे छाया तेरा नशा दिल पे तेरे सब कर्ज मिटा देंगे माना ये दौर है मुश्किल... Read more