Skip to content

एक मामूली लड़की -बेटी

minakshi mishra

minakshi mishra

कविता

January 14, 2017

हल्की हवा के झोंकों पर
तृण मूल सा वो बिखर जाती,
एक छोटी ख़ुशी से भी
घन तिमिर में चपला सी
वो चमक जाती,
पानी की धरातल पर वो
रेत का घरौंदा बनाती
बिखरने पर फिर से एक
निष्फल प्रयत्न में लग जाती,
लहूलुहान होने पर भी दर्द से
शूल चुभते अतीत के व्यंग से
अधरों पर मुस्कान मधुर वो
नवप्रभात सा खिलाती ,
जीवन की क्या बिसात जो
कठोर कदमो से उसे रोक दे
लफ्जों में कुछ न कहे पर
निश्छल आँखों से हर राज़ बताती,
जमाने की रीत से अनभिज्ञ
आँखों में जिन्दा सपने सजाती
उम्मीदों से उनको पालती सवांरती,
ह्रदय में समेटे दुखों का समंदर
नयनों में असंख्य अश्रु गागर
मर्यादा की ओढ़े चादर वो
रिश्तों की आग पर चलती जाती,
जीवन सम्पूर्ण खोकर
खुद की बलिदानी देकर
क्या मिला उसे? आज सोचा तो
आत्मा की गहराइयों से रो दिया
दिखावे के छल में ,अपनों की खातिर
सपनो को खो दिया ,और फिर भी
जमाना कहता है पराया धन “बेटी”।।
Minakshi mishra

Author
minakshi mishra
निवासी---घाटों मन्दिरो का शहर अपना बनारस मनोचिकित्सक ??? Passion +life =writing Psychologist by profession Learner by nature Be positive keep smiling ???
Recommended Posts
जब बेटियां हमारी हमें छोड़ जाती हैं  (विदाई).
नम हो जाती हैं ऑखें भर आती हैं जब बेटियां हमारी हमे छोड़ जाती हैं बचपन में बेटी को जी भर दुलराते हैं बाहों में... Read more
*वो हम नहीं *
राह से भटक जाएं वो हम नहीं । हार के बैठ जाएं वो हम नहीं ।। डर के भाग जाती हैं मुश्किलें हमसे । मुश्किलों... Read more
मुक्तक
रात जाती है फिर से क्यों रात आ जाती है? धीरे---धीरे दर्द की बारात आ जाती है! भूला हुआ सा रहता हूँ चाहतों को लेकिन,... Read more
न वो रात सवांरा करे
न वो रात सवारा करे कोई चाँद से कह तो दे, न वो रात सवारा करे, वो दूर हों ऐसे में, तो ये दिल, कैसे... Read more