एक महकती बेटी हो

आधार छंद – लौकिक अनाम, 22 मात्राभार
———————–
फूलों जैसी एक महकती बेटी हो ।
चन्दा जैसी एक चमकती बेटी हो ।

स्वर्ग बनेगा निश्चित, जो घर में यारों ,
कोयल जैसी एक चहकती बेटी हो ।

दादा बच्चे बन जाते हैं जिस घर में ,
चिड़िया जैसी एक फ़ुदकती बेटी हो ।

लोरी गाती कब थकती बूढी दादी ,
जो गोदी में एक सुबकती बेटी हो ।

दुनिया के हर घर की सुन्दर बगिया में ,
गुड़िया जैसी एक मटकती बेटी हो ।

घर-आँगन सब नाच उठेगा यदि कोई ,
पायल पहने एक छमकती बेटी हो ।

खुशियों की बारात सदा ही आएगी ,
जिस घर यारों एक थिरकती बेटी हो ।

ईश्वर से मैं नित्य दुआ ये मांगूगा ,
सबके घर में एक दमकती बेटी हो ।

खुशहाली ‘अनजान’ वहां छा जायेगी ,
आँगन में जो एक ठुमकती बेटी हो ।

अरविन्द उनियाल, ‘अनजान’, उत्तराखंड ।

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 3

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 1
Views 179

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share