.
Skip to content

एक बेटी की अपनी माँ से अपेक्षा

प्रतीक्षा साहू

प्रतीक्षा साहू

कविता

January 11, 2017

मेरी एक अपेक्षा
मेरी माँ से
कि माँ क्यूँ
तू मुझे अपना बेटा नहीं समझती,
क्योंकि देखा है
तेरी आँखों में मैंने
एक बड़े बेटे की कमी को,
पढ़ा है तेरे मन को,
जो कहता है कि
काश मेरा एक बड़ा बेटा होता,
मैं जानती हूँ माँ,
तू मुझसे बहुत प्यार करती है
पर माँ एक बार तो
देख मेरी तरफ
मैंने हमेशा तेरा
बड़ा बेटा बनने की
पूरी कोशिश की है माँ
अपनी बहनो के प्रति
हर दायित्व को निभाया है
एक बड़े भाई की तरह |
जब भी आवाज लगाई तूने
तुरंत तेरे पास अकेले ही
दौड़ी चली आई *माँ*
बिना जमाने की फिकर किए
कि इस दुनिया में
कुछ लोग ऐसे भी हैं
जो एक अकेली लड़की को
बहुत बुरी निगाहों से देखते हैं,
पर *माँ*, मैं फिर भी
तेरे एक बार बुलाने पर ही
तुरंत घर भागी चली आती हूँ,
क्योंकि मैं तेरा
बेटा बनना चाहती हूँ *माँ*,
तेरा वो बेटा मेरी *माँ*
जो तू मेरी जगह चाहती थी ||

प्रतीक्षा साहू

Author
प्रतीक्षा साहू
कविताऎं लिखना सिर्फ मेरा शौक ही नहीं मेरा जुनून है...
Recommended Posts
ओ माँ, ऐ माँ, ....................|गीत| “मनोज कुमार”
ओ माँ, ऐ माँ, मेरी माँ, ओ माँ मेरी किस्मत का खजाना तू ही तू ही माँ इन आँखों की खुशियाँ रहमत तू ही माँ... Read more
माँ मेरी माँ
???? माँ मेरी माँ, मुझे छोड़ के मत जाओ कुछ दिन तो मेरे साथ बिताओ। माँ मैं तुम बिन अकेली हो जाती हूँ, जब तुम... Read more
माँ तू ही मेरा सबकुछ
माँ तू ममता का सागर है …. तुम्हीं से दुनिया वजूद यहाँ। माँ तू ईश्वर का रूप है, माँ तुम्ही से है मेरा जहाँ। माँ... Read more
माँ ओ मेरी माँ
माँ ओ माँ मेरी वो तेरा कहना था, बुढापे मे सहारा बताना था | भुलु भी कैसे भला मैं, तेरा ही तो दिया हूआ ये... Read more