Jul 19, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

एक बाप की औलाद

सूखा पीपल

हवा का झोका आया
और
खर खर खर
कु आवाज से
पीपल के पत्ते जमीं पर
बिखर गए
अब न मालूम पड़ रहा था
कौन किस फ्लोर का
निवाशी है
किस महंत के सिस्य है
सब एक झुण्ड में तो थे लेकिन
पहचान बस इतनी थी
ये पीपल के पत्ते हैं
आज सब का अहंकार और भ्रम
टूट चूका था
सब जान गए थे
हम इस मुल्क उस मुल्क के नहीं
अपितु
एक बाप की औलाद हैं….

आमोद बिन्दौरी ©®

1 Comment · 33 Views
Copy link to share
amod srivastava
4 Posts · 145 Views
You may also like: