एक दोस्त चाहिए ...

एक दोस्त चाहिए जो हो कुछ दोस्त से ज्यादा
जो बांट ले सुखों को मेरे गम को भी आधा
यूँ तो मेरे मरने पे रोयेंगे बहुत लोग….
कोई तो हो रोने पे जो मरने को आमादा …!!

. – हरवंश श्रीवास्तव ‘हर्फ़’
(बाँदा)

1 Like · 2 Comments · 105 Views
लेखक/कवि शिक्षक नेता , अध्यक्ष UPPSS तिन्दवारी
You may also like: